Mr Jollys Music Classes

Harmonium, keyboard, piano lessons, Indian Classical and folk Music Lessons, Indian Ragas Lessons, Indian Rhythms Lessons, Raga Definitions,Songs Notations, Bhajan Notations, Singing Tips, Indian Music Theory Lessons, Vocal Practice Tips,

Mr Jollys Music Classes
Artist Guidelines (Singers and Musicians)

What Should Music Learners Knowledge More About,Theory Or Practical ?

Spread the love

Rate this post

What Should a Music Learners Knowledge More About, Theory or Practical 

 

      🙏🎹🇨🇦🎶🇰🇷🇱🇷🎼🇬🇧🎵🎷🇦🇮🥫🇲🇾🇭🇲🇳🇪🙏

 
                  
🎹🥫 Friends, there are many people in this world who are learning music and I know very well that you are also one of them, only then you are reading this post, some of you must have wanted to become a singer, someone would want to become a musician. someone would want to become an instrument player and you are doing your practice with full effort and full dedication, but while learning music, a question must have come in your mind that we are learning music but what do we need more knowledge in music? Must have knowledge I mean to say that you must be thinking that we
     One should have more knowledge of theory or Practical in the music. that in today’s post of practical we will talk about the same, you read this post completely and carefully you will know that what is theory and practical key for a singer, musician or instrument player. There will be a lot of confusion in your mind about theory and practical, which will go away after reading this post, you will know today what are the benefits of having theory and practical knowledge and if we have any less knowledge of either of them. what are its disadvantages, so now let’s talk in detail about the advantages and disadvantages of theory and practical, first of all let’s talk about theory:–
 
      
Benefits of having knowledge of music theory
 
 
    (1) The biggest advantage of having knowledge of music theory is that there will be no confusion in your mind and there will be no fear that any music teacher or artist may ask you any question and you will not be able to answer it if your good experience in music If you have studied well, you will have knowledge of it, then you will be able to answer any question very easily and the person in front will know very easily how much knowledge you have about music,
 
 
    (2) You will have the second advantage of the knowledge of music theory that when you teach music to anyone in your future, it will be very easy for you to teach music, I am saying this because there are many such singers in this world who are good singer. they also program and earn money but they don’t have much knowledge of theory and hence they can’t teach anyone and it is a big minus point for a singer that he has no Knowledge of music theory. Because if you do not have knowledge of music theory yourself, then what will you be able to teach to someone else,
 
 
 
    (3)) The third advantage of having the knowledge of music theory is that when one acquires the knowledge of music theory, he gets to know many things related to music such as Alankar, Khatka, Murki, Meend, Taan, Aalap such There are many things about which you come to know and it not only improves your singing a lot, along with that you also start being counted among the scholars of music,
 
 
    (4) ) Your next advantage of the knowledge of music theory is that you can perform anywhere on the stage without fear. If you are a singer, then you can easily tell the keyboard player which scale, pitch. I will sing and what will be my raga, if you do not have the knowledge yourself then you will not be able to tell him at all and he will also get confused and he will also have a big problem in playing the keyboard and the second is that if you are an instrument player then you will do well If you will understand that what is the Scale of the singer and in which raga he is singing, then it will be very easy for you to understand,
 
 
 
    (5)) The next advantage of music theory is that any way you do music work, you are sure to get success. If you are a singer and have a little knowledge of music theory, then you will sing in a proper tone and rhythm. and if you become a music director and become the music of any song, then you will compose the music of any song in a very proper way in melody and rhythm and if you become an instrument player then you will play anything then it will be done in the right way. Whether you want to become a singer, become a musician, an instrument player, or make efforts in the field of social media, you are bound to get success because you will have complete knowledge of music theory,
 
 
    (6) In the previous point I have talked about social media, by that I mean that if you record and upload your cover songs on YouTube or teach music, then you definitely get success if you also create a website of your own and then you will do music. you will also have a lot of success.
 
 
          
wledge of music theory
Disadvantages of lack of knowledge of music theory
 
 
    (1) If you do not have the knowledge of music theory, then even if you want to become a great singer musician or instrumentalist, you will always feel a lack in yourself that I have not learned anything, you will always have this fear while singing or playing It seems that if a master or listener asks something, what will I answer,
 
 
 
    (2) Second, you will feel completely incapable of teaching music to someone because there are many points of music that a singer musician or instrumentalist needs to learn, if you do not know them yourself then what will you tell someone else and what will teach
 
   
What  should you Learn to in Music Theory
 
 
    (1) First of all you should have complete knowledge about whatever instrument you are learning, be it harmonium, keyboard, piano, guitar or tanpura
 
 
    (2) After that you should know about Musical notes that there are total notes, how many notes are full tone, how half tone and how sharp tone, you all should be aware of all this
 
 
    (3) After that you should know about the octave i.e. octave, how many main octaves are there in music, what are their names,
 
    (4) After that if you are learning singing, then your harmonium or keyboard should be able to play ornaments and flips and now if you are learning any instrument with rhythm. Like Dholak,Tabla, Drum Set, Drum Pads ect. then you should know the basic lyrics of that instrument, what are the basic lyrics and how to play,
 
 
    (5) After that if you are learning singing then you should have complete knowledge about ragas. Along with ragas, you should have complete knowledge about their restrictions such as chhota khayal, bada khayal. And you should also have knowledge of the definitions of ragas,
 
    (6) And if you are learning a percussion instrument, then you should also know the rhythms played on it and their many types
 
    (7) If you want to become a singer or a musician, then you have to know the nuances of music like Taan, Aalap, Khatka, Murki, Mind all these and many more songs, bhajans, ghazals, notation of songs, making them harmonium, keyboard, piano. But you should have the ability to play easily, along with that you should also have knowledge of rhythms, because knowledge of rhythm is also very important for a singer,
 
 
 
 
 

Now let’s talk about practical, what should you know about practical in music?

    (1) You should have more practice in Instruments playing music in practical. You should have that ability to play the instrument you are learning and sing along with it in high to high and low to low tones, the better you can play and sing on that instrument, the better singer you will be. Or you will become a musician. Along with that, you should also have good knowledge of what has been mentioned above.
 
 
 
 
    So friends, after talking in detail about music theory and practical, we come to know that to become a successful singer, musician or instrumentalist, we should have equal and ample knowledge of both music theory and practical, Otherwise you will not be able to succeed in the field of music.
 
 
   Mistakes:—
 
Note: – There may be mistakes in translation, so if you do not understand anything, then comment me (English, Hindi or Punjabi), no matter which country you are from, I will try my best to answer your comment, and in future I will try to improve these mistakes too — Kulwinder Jolly {Mr.Jolly}
 
 

Note:–You can also Visit and Subscribe to My YouTube channel Mr.Jollys Music Classesto See Knowledgeful Videos of Theory and Paractical related to Music,

 
 
 

संगीत सीखने वालों को किस चीज़ का ज़्यादा ज्ञान होना चाहिए, थ्योरी या प्रैक्टिकल ?

 
 
 
       🙏🎹🇨🇦🎶🇰🇷🇱🇷🎼🇬🇧🎵🎷🇦🇮🥫🇲🇾🇭🇲🇳🇪🙏
 
 
 
🎹🥫 दोस्तो इस दुनिया में बहुत सारे लोग हैं जो संगीत सीख रहे हैं और मुझे अच्छी तरह पता है कि उनमें से आप भी एक हो तभी तो आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हो आप में से भी कोई सिंगर बनना चाहता होगा कोई संगीतकार बनना चाहता होगा कोई इंस्ट्रूमेंट प्लेयर बनना चाहता होगा और आप पूरा प्रयास पूरी मेहनत और पूरी लगन के साथ अपना रियाज़ कर रहे हैं लेकिन संगीत सीखते सीखते आपके मन में एक प्रश्न ज़रूर आता होगा कि हम कि हम संगीत तो सीख रहे हैं लेकिन हमको संगीत में किस चीज़ की ज़्यादा नॉलेज होनी चाहिए मेरे कहने का मतलब है कि आप ये ज़रूर सोचते होंगे कि हम
 को थियूरी की ज़्यादा नॉलेज होनी चाहिए कि प्रैक्टिकल की आज की इस पोस्ट में हम उसी बारे में बात करेंगे आप इस पोस्ट को पूरा और ध्यान से पढ़ लीजिए आपको पता चल जाऐगा कि एक सिंगर, संगीतकार या इंस्ट्रूमेंट प्लेयर के लिए थियूरी और प्रैक्टिकल की क्या वैल्यू होती है आपके मन में थ्योरी और प्रैक्टिकल को लेकर बहुत सारे कंफ्यूजन होंगे जो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद दूर हो जाएंगे आपको आज पता चल जाऐगा कि थियूरी और प्रैक्टिकल नॉलेज होने से क्या फायदे हैं और इनकी दोनों में से किसी की नॉलेज अगर हमको कम हो तो उसके क्या नुकसान हैं तो चलिए अब थियूरी और प्रैक्टिकल के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से बात करते हैं सबसे पहले बात करते हैं थियूरी की:–
 
          

            म्यूज़िक थियूरी का ज्ञान होने के फायदे

 
(1) म्यूज़िक थ्योरी की नौलज होने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपके मन में कोई कंफ्यूजन नहीं रहेगा और ना ही कोई डर रहेगा कि कोई भी गुरु या आर्टिस्ट आपसे कोई सवाल पूछ ले और आप उसका जवाब ना दे पाएं आगर अपने म्यूज़िक पुरी अच्छी स्टडी की होगी आपको उसका ज्ञान होगा तो आप उनको किसी भी सवाल का जवाब बड़ी आसानी से दे पाएंगे और सामने वाले को बड़ी आसानी से पता चल जाऐगा कि आपको संगीत के बारे में कितना ज्ञान है,
 
 
(2) म्यूज़िक थियूरी का ज्ञान का आपको दूसरा फायदा यह होगा कि जब आप अपने भविष्य में किसी को भी संगीत सिखाएंगे तो आपको संगीत सिखाने में बहुत आसानी होगी यह बात मैं इसलिए कह रहा हूं क्योंकि इस दुनिया में ऐसे बहुत सारे सिंगर हैं जो अच्छा गाते हैं और उनकी मार्केट भी है वह प्रोग्राम भी करते हैं और पैसा भी कमाते हैं लेकिन उनको थियूरी का ज़्यादा ज्ञान नहीं है और इसलिए वह किसी को सिखा नहीं सकते हैं और यह एक सिंगर के लिए बहुत बड़ा माईनस पुआइंट होता है कि उसको म्यूज़िक थियूरी का ज्ञान ना हो क्योंकि अगर आपको खुद ही म्यूज़िक थियूरी का ज्ञान नहीं होगा तो आप किसी और को क्या सीखा पाएंगे,
 
 
 
(3)) म्यूज़िक थियूरी का ज्ञान होने का तीसरा फायदा यह है कि जब कोई म्युजि़क थियूरी का ज्ञान प्राप्त करता है तो उसको म्यूज़िक से रिलेटेड बहुत सारी चीज़ों का पता लगता है जैसे कि अलंकार, खटका, मुरकी, मींड, तानें, आलाप ऐसी बहुत सारी चीज़ें हैं जिनके बारे में आपको पता चलता है और उससे आपकी गायकी में तो बहुत सुधार आता ही है उसके साथ-साथ आप की गिनती संगीत के विद्वानों में भी होने लगती है,
 
 
(4) ) म्यूजिक थियूरी की नॉलेज का आपको आगला फायदा यह है कि आप कहीं भी स्टेज पर निर्भय होकर परफॉर्म कर सकते हैं अगर आप एक सिंगर हो तो आप बड़ी आसानी से कीबोर्ड प्लेयर को बता सकते हैं कि मैं कौन सी स्केल, पिच से गाऊंगा और मेरा कौन सा राग होगा अगर आपको खुद ही नॉलेज नहीं होगी तो आप उसको बिल्कुल नहीं बता पाएंगे और वह भी कंफ्यूज हो जाऐगा और उसको कीबोर्ड बजाने में भी बड़ी दिक्कत आऐगी और दूसरा यह है कि अगर आप एक इंस्ट्रूमेंट प्लेयर होंगे तो आप भली-भांति समझ जाएंगे कि गाने वाला का क्या सकेल है और वो किस राग में गा रहा है तो आपको समझने में भी बड़ी आसानी होगी,
 
 
 
(5)) म्यूज़िक थियूरी का अगला फायदा यह है कि आप किसी भी तरह म्यूज़िक का काम करेंगे तो आपको सक्सेस पक्का मिलनी है अगर आप एक सिंगर हों और आप को म्यूज़िक थियूरी की थोड़ी बहुत भी नॉलेज है तो आप प्रॉपर सुर और ताल में गाएंगे, और अगर आप एक म्यूज़िक डायरेक्टर बन कर किसी गीत का म्यूज़िक बनते हैं तो आप किसी भी गीत का म्यूजिक बड़े प्रॉपर तरीके से सुर और ताल में तैयार करेंगे और अगर आप एक इंस्ट्रूमेंट प्लेयर बनते हैं तो आप कुछ भी बजाएंगे तो वो बड़े सही तरीके से बजाएंगे आप चाहे सिंगर बने संगीतकार बने इंस्ट्रूमेंट प्लेयर बने या फिर सोशल मीडिया के क्षेत्र में प्रयत्न करें आपको सफलता मिलनी ही मिलनी है क्योंकि आपको म्यूज़िक थियूरी की पूरी नॉलेज होगी,
 
 
(6) पिछले बिंदु में मैने शोशल मीडिया की बात की है उससे मेरा मतलब है कि अगर आप यूट्यूब पर अपने कवर सोंग रिकार्ड करके अपलोड करते हैं या संगीत सिखाते हैं तो आपको सफलता जरूर मिलती है अगर आप अपनी एक वैबसाइट भी बनाकर संगीत सियाएंगे तब भी आपको बहुत सफलता मिलेगी
 
 

       म्युज़िक थियूरी का ज्ञान ना होने के नुकसान

 
(1)अगर आपको म्यूज़िक थियूरी की नौलज नहीं होगी तो आप भले ही जितने मर्जी बड़े सिंगर संगीतकार या वाद्ययंत्र वादक बन जाएं आपको हमेशा अपने अंदर एक कमी सी महसूस होती रहेगी कि मैंने कुछ सीखा नहीं है, आपको गाते या बजाते वक्त हमेशा ये डर लगता रहेगा कि अगर किसी मास्टर या श्रोता ने कुछ पुछ लिया तो मैं क्या जवाब दूंगा,
 
 
 
(2)दूसरा आप किसी को संगीत सिखाने में बिलकुल असर्मथ महसूस करेंगे क्योंकि संगीत के बहुत सारे ऐसे बिंदु हैं जो एक सिंगर संगीतकार या वाद्य यंत्र वादक को सीखने ज़रूरी हैं अगर उनका आपको खुद ही पता नहीं तो आप किसी और को क्या बताएँगे और क्या सिखाएंगे
 
 
 
 
 
 
 

म्युज़िक थियूरी में आपको किस चीज़ का ज्ञान होना चाहिए

 
 
(1) सबसे पहले तो आप जो भी ईंस्टूमेंट सीख रहे हो उसके बारे में आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए,चाहे वह हरमोनियम हो कीबोर्ड, पिआनो, गिटार या तानपुरा हो
 
 
(2) उसके बाद आपको स्वर ज्ञान यानी स्वरों के बारे में पता होना चाहिए कि कुल स्वर होते हैं, कितने स्वर शुद्ध होते हैं, कितने कोमल होते हैं और कितने तीव्र होते हैं आप सब को इस सब की जानकारी होनी चाहिए
 
 
(3) उसके बाद आपको सप्तक यानी ऑक्टेव के बारे में जानकारी होनी चाहिए कि संगीत में मुख्य कितने सप्तक होते हैं, उनके नाम क्या हैं,
 
(4)उसके बाद अगर आप सिंगिंग सीख रहे हैं तो आपका हरमोनियम या कीबोर्ड पर अलंकार और पलटे बजाने आने चाहिए और अगर अब रिदम वाला कोई साज़ सीख रहे हैं। जैसे ढोलक तबला ड्रम सैट ड्रम पैड तो आपको उस साज़ के बेसिक बोलों का पता होना चाहिए कि बेसिक बोल कौन कौन से होते हैं और कैसे कैसे बजते हैं,
 
 
(5)उसके बाद अगर आप सिंगिंग सीख रहे हैं तो आपको रागों के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। रागों के साथ-साथ आपको उनकी बंदिशें जैसे के छोटा ख्याल, बड़ा खयाल इन के बारे में आपको संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए।और आपको रागों की परिभाषाओं का भी ज्ञान होना चाहिए,
 
(6)और अगर आप ताल वाला वाद्य यंत्र सीख रहे हैं तो आपको उसपे बजने वाली तालों और उनके अनेक प्रकारों का भी पता होना चाहिए
 
(7)अगर आप सिंगर या संगीतकार बनना चाहते हैं तो आपको संगीत को बारीकियां जैसे कि तान, आलाप, खटका,मुर्की,मींड ये सब और इनके इलावा बहुत सारे गीत, भजन,गज़ल, गीतों की नोटेशन बनाना उनको हरमोनियम, कीबोर्ड, पियानो पर आसानी से बजाने की काबलीयत होनी चाहिए,उसके साथ- साथ आपको तालों का भी ज्ञान होना चाहिए, क्योंकि एक सिंगर के लिए ताल का ज्ञान भी बहुत जरूरी है,
 
 
 
 
 
 
 

अब बात करते हैं प्रैक्टिकल की कि संगीत में प्रैक्टिकल में आपको क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

 
 
 
 
(1)संगीत में प्रैक्टिकल में आपको बजाने का ज्यादा अभ्यास होना चाहिए। आपके अंदर वो काबलीयत होनी चाहिए कि आप जो भी वाद्य यंत्र सीख रहे हैं उसको बजा कर उसके साथ ऊंचे से ऊंचे और नीचे से नीचे स्वरों पर सफलतापूर्वक गा सकें, आप जितना ज्यादा अच्छा इंस्ट्रूमेंट बजा सकेंगे और उस पर गा सकेंगे आप उतने ही अच्छे सिंगर या संगीतकार बनेंगे।उसके साथ-साथ आपको जो भी ऊपर बताया गया है, वह भी नॉलेज आपको अच्छी तरह से होनी चाहिए।
 
 
 
 
तो दोस्तो म्युजि़क थियूरी और प्रैक्टिकल के बारे में विस्तार से बात करने के बाद हमें ये पता चलता है कि हमें एक कामयाब सिंगर, संगीतकार या वाद्य यंत्र वादक बनने के लिए म्युजिक थियूरी और प्रैक्टिकल दोनो का बराबर और भरपुर ज्ञान होना चाहिए नहीं तो हम संगीत के क्षेत्र में सफल नहीं हो पाएंगे,
 

Spread the love

Mr.jollys Music Classes

Hello friends, My Name is Kulwinder Jolly (Mr.jolly) I am a Youtuber and Writer.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!