Top 20 Types of Gamak and Taans in Indian classical Music.(Part-1)

Top 20 Types of Gamak and Taans in Indian classical Music.(Part-1)

Spread the love

Rate this post

🙏🎹🇬🇪🎶🇬🇧🎤🇬🇪🎵🇦🇮🎼🇲🇾🎷🇰🇷🎻🇳🇪🙏

Top 20 Types of Gamak and Taans in Indian classical Music.(Part-1)

🎹🎵🎤 Friends, whenever someone starts learning music, especially Indian classical music, he is taught alankar (Music Ornaments) after a few days of vocal knowledge. After that small bhajans and then ragas are taught, and ragas along with their taans are also taught, in today’s post we will talk about taans and gamak only. In today’s special post, we will tell you what are Taan and Gamak in Indian classical music and how many types are there? If you are learning Indian classical music or learning to sing and play Hindi, Punjabi, Bhojpuri, film songs, then you must have a good knowledge of tana and ghamak because this information is useful for all your life. If I don’t know much about this topic, I have written many such posts on that subject, in which I have told about the definitions of ragas, Tanen and some famous film songs based on those ragas. If you have not read those posts yet, you must read those posts once, by reading them you will get a lot of knowledge, which will be of great use to you in your music career, so now let’s talk about the first topic of this post. And tell you what are the taan in Indian classical music? And how many types are they?
Read More:—Easiest way to learn Ragas of Indian classical music

Note :–If you like this post and find it knowledgeable, then please Vote, Support and Share this post.
(Press the star symbol at the beginning of the post.)

What are Taans in Indian Classical Music? And how many types are these?

Definition of Taan

Taan:– Whenever the swaras (Notes) are expanded in the double rhythm, it is called taan, or else it can be said that while singing any raga, it is called taan to expand the noted in the dublle rhythm, such as, (SR GM MP DN PM GM GR S–) Taan are used to create rasa in singing to make the singing even more effective, when a singer uses the strings in his singing while singing. Her singing sounds great and sounds very impressive which the listeners enjoy very much. There are many types of Tans such as- Flat Tan, Kut Tan, Choot Tan, Ornamental Tan, Firat Tan, Gamak Ki Taan, Wakar Taan, Granular Taan, Boltan, Pure or Simple Tan, Mishar Tan, Jbde kiTaan,(Jaw than ) Mein Taan Mostly 2-2 notes are used. But sometimes 4-4 Notes, sometimes 6-6 Notes sometimes 8-8 notes, even sometimes 16 -16 notes are also used.

Read More:—What are Shuddha, Chhayalag and Sankirn raga in Indian classical music

So let us now tell you in detail what is the meaning of which taan?

(1) Alankarik Taan :- In this taan the rules of ornamentation are followed. In most of the ascents and descents, the rules of ornamentation are followed.

(2) Vakartan :- In place of spat taan in vakartan we take vakartan, in this taan the movement of notes is wakar (crooked)

(3) Chhoot ki taan:- The taan of chhut ki to draw the spit taan coming sooner than any note of the chord octave,

(4) Jabde kiTaan (Than of Jaw ) than) :- Jabda Taan is not a special Taan, but when a Taan is sung with Jaw, it is called Jaw Taan.

(5) Danedaar taan (Granular Tan) :— In this type of tan, the use of particles is very much. That’s why some people also call it a particle-rich tan. Such taans are very difficult, such three should not be jolted while singing and each taan should be sung very eisely.

(6) Gamak ki Tan :- The tone in which Gamak’s notes are used is called Gamak ki Taan. These types of taunts are agitated while reciting them and they are uttered loudly from the chest.

(7) Boltan :- In singing, speaking the lyrics of a song or bandish with different types of beats is called Boltan. Boltana literally means to present the lyrics of any song, raga in different ways in the form of taan and this type sounds very melodious in singing. While singing this taan, special care has to be taken about which lyrics have to be given more emphasis.

(8) Koot Taan:- The Taan in which twisted notes are used is called Koot Taan.

(9) Misr taan (Mixed taan) : – In this taan there is a mixture of the vowels of pure and kut taan.

(10) Ghumau Tan (days for rotating nots) In this taan, the nots are rotated in a circular motion.

Friends, apart from all these taan types, there are some other types of taans like such as Acharak Tan, Lundat Tan, Gitkari Tan, Halak Tan, Palta Tan, Khatke Taan, Sarok Tan, Shuddha Tan, Flat Tan etc. We will know about all the taans in detail in the second part of this post.
Read More:–10 Thaats of Indian classical music and their main ragas

So friends, this was some detail information about the task, I sincerely hope that you must have got a lot of knowledge from reading this first topic of this post. Now tell you what is Ghamak in music and how many types are there?

What is Ghamak in Indian Classical Music? And how many types?

Gamak–The movement of vowels is called Gamak which is very pleasant for the listeners to hear. The ancient authors of music considered 15 types of Gamak, out of which in modern times Gamak is called by giving some other names such as Khatka, Murki, Meend, Jamjma, Gitkidi, all these words are used on those notes on which more There is movement and which a singer sings with all his heart,

Read More:–What Should Music Learners Knowledge More About?Theory Or Practical

Now let us tell you how many types of gumak are there :-

(1) Kampit (Vibrated Gamak) :- In this Gamak, by placing a finger on a particular note of the Sitar or Veena, it is shaken and vibrate is created from it, the singer produces vibrations from the throat on any one note. As if S aa aa.. G aa aa aa… M aa aa aa..

(2) Aandolit Gamak: – According to this Gamak, movement is done on a particular note. With the help of the front or back vowel of a swar, it is shaken like a swing, in this gamak the kanal or sarpasha swara is more important.

(3) Aahat Gamak:- Singing a self by jerking the back and forth vowels is called Aahat Gamak. It is also called Khatka nowadays. To say khatka, one has to jerk the vowel back and forth before the vowel.

(4) Palavit Gamak :- Going from one vowel to another without breaking the sound is called Palavit Gamak. In modern times, this gumak is called Meand.

(5) Ulhasik Gamak:- In this Gamak, the notes from the bottom to the top have to be vibrated sequentially, it is also called Gadagdit Gamak,

(6) Vali Gamak :- The speed of this Gamak is Vakar. In this, the notes are rotated by rotating. such as SRNS RGSR, GMRS.

(7) Treebhin Gamak :- One or more swaras (not) sung in a hurried manner in all the three Saptaks is called Nybhin Gamak like Gam Gam Gam, in modern times it is called Pukar,

Note:–Friends, apart from all these types, there are some other types of gummak such as Aahat Gamak, Tirip Gumak, Mixed (Mishrit) Gumak, Namil Gamak, Humphit Gamak, Lean Gamak, Safurit Gamak, Kurul Gamak, etc.We will know about all these gamaks in detail in the second part of this post.

You can also Visit and Subscribe to My YouTube channel Mr.jolly’s Music Classes to See Knowledgeful Videos of Theory and Practical related to Music,

Note:—-You can also follow me on my podcast channels to learn and understand music more easily, where I upload audio episodes related to music. You will find links to both in the description of any video on my YouTube channel ‘Mr. Jolly’s Music Classes

Note :— Friends, if you have any question related to Indian Classical Music or you want to give any suggestion, then you can tell me by commenting below this post. And if you want to read a post on a particular topic and you want me to write a post on that topic or else you want to learn to sing and play a particular song, Ghazal, Bhajan or Qavali on Harmonium or Keyboard and you want If I make a video by making its notation, then you can also tell me about it by commenting below this post. I will try my best to write post and make video on that topic.

🙏🎹🇬🇪🎶🇬🇧🎤🇬🇪🎵🇦🇮🎼🇲🇾🎷🇰🇷🎻🇳🇪🙏

भारतीय शास्त्रीय संगीत में ग़मकों और तानों के मुख्य 20 प्रकार (भाग-1)

🎹🎵🎤 दोस्तो जब भी कोई संगीत सीखना शुरू करता है, खासतौर पर इंडियन क्लासिकल म्यूजि़क सीखना शुरू करता है तो उसको कुछ दिन स्वर ज्ञान सिखाने के बाद अलंकार सिखाए जाते हैं। उसके बाद छोटे-मोटे भजन और उसके बाद राग सीखाए जाते हैं, और रागों साथ-साथ उनकी तानें भी सिखाई जाती हैं, आज की इस पोस्ट में हम तानों और ग़मक के बारे में बात करेंगे। आज की इस विशेष पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि भारतीय शास्त्रीय संगीत में तानें और ग़मक क्या होते हैं और ये कितने प्रकार के होते हैं? अगर आप इंडिगयन क्लासिकल म्यूजिक सीख रहे हैं या हिंदी, पंजाबी, भोजपुरी, फिल्मी गीत गाना और बजाना सीख रहे हैं तो आपको तानों और ग़मक के बारे में अच्छी तरह जानकारी होनी चाहिए क्योंकि यह जानकारी आपके सारी उम्र काम आती है।और अगर आपको तानों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है तो उस विषय पर मैंने कई सारी ऐसी पोस्ट लिखी हैं ,जिनमों मैंने रागों की परिभाषाएं, तानें और उन रागों पर आधारित कुछ मशहूर फिल्मी गीतों के बारे में बताया हुआ है। अगर आपने अभी तक वो पोस्ट नहीं पड़ी हैं आप उन पोस्ट को एक बार ज़रूर पढ़ लें उनको पढ़ने से आपको बहुत ज्यादा नौलज मिलेगी, जो आपके मयुजिक कैरीअर में आपके बहुत ज़्यादा काम आएगी, तो चलिए अब इस पोस्ट के पहले पारट पर बात करते हैं और आपको बताते हैं कि भारतीय शास्त्रीय संगीत में तानें क्या होती हैं ? और ये कितने प्रकार की होती हैं?

तान की परिभाषा

जब भी स्वरों का विस्तार दरूत लय में किया जाता है तो उसको तान कहते हैं,या फिर यह कह लीजिए के रागदरी करते समय मतलब किसी भी राग को गाते हुए दरूत लय में स्वरों का विस्तार करना इसी को ही तान कहते हैं, जैसे कि, ( सरे गम मप धनी पम गम गरे स–) तानों का प्रयोग गायन में रस पैदा करने के लिए गायन को और भी ज़्यादा प्रभावशाली बनाने के लिए किया जाता है, जब कोई गायक गायन करते समय तानों का प्रयोग अपने गायन में करता है तो उसका गायन बहुत बढ़िया लगता है और बहुत ही प्रभावशाली लगता है जिसे सुनने वालों को बहुत आनंद आता है। तानों के कईं प्रकार हैं जैसे कि– सपाट तान, कुट तान, छुट तान, अलंकारिक तान, फिरत तान, गमक की तान, वकर तान, दानेदार तान, बोलतान, शुद्ध या सरल तान, मिशर तान, जबड़े की तान, तानों में ज्यादातर 2-2 सवरों का प्रयोग होता है। लेकिन कई बार 4-4 स्वरों का कईं बार 6-6 स्वरों का कईं बार 8-8 स्वरों का, यहां तक कि कईं बार 16 -16 स्वरों का भी प्रयोग होता है।

नोट:–अगर आपको ये पोस्ट पसंद आए और नॉलेजफुल लगे तो इस पोस्ट को वोट, स्पॉट और शेयर जरूर करें (स्टार के निशान को दबाऐं जो पोस्ट की शुरुआत में हैं)

तो चलिए अब आपको विस्तार से बताते हैं कि किस तान का क्या मतलब होता है?

भारतीय शास्त्रीय संगीत में तानों के मुख्य प्रकार

(1)अलंकारिक तान :–इस तान में अलंकार के नियमों का पालन किया जाता है। अधिकतर आरोह-अवरोह दोनों में ही अलंकार के नियमों का पालन किया जाता है।

(2) वक्रतान :–वकरतान में स्पाट तान के स्थान पर वकरतान लेते हैं, इस तान में स्वरों की चाल वकर होती है

(3) छुट की तान:–तार सप्तक के किसी सवर से जल्दी जल्दी आते हुए स्पाट तान खीचने को छूट की तान कहते हैं,

(4) जबड़े की तान :–जबड़े की तान कोई विशेष तान नहीं है लेकिन जब किसी तान को जबड़े से गाया जाता है तो उसको जबड़े की तान कहते हैं।

(5) दानेदार तान:—इस प्रकार के तानोंं में कणों का प्रयोग बहुत ज़्यादा होता है। इसलिए कुछ लोग इसको का कण युक्त तान भी कहते हैं। ऐसी तानें बहुत कठिन होती हैं ऐसी तीनों को गाये वक्त झटका नहीं देना चाहिए और बड़ी मधुरता के साथ हर तान को गाना चाहिए।

(6) ग़मक की तान :–ग़मक के स्वरों का प्रयोग जिस तान में होता है, उसको ग़मक की तान कहते हैं। इस प्रकार की तानों को सवर बोलते हुए उनको आंदोलित किया जाता है और इनको छाती से ज़ोर से बोला जाता है।

(7) बोलतान :–गायन में गीत या बंदिश के बोलों को अलग-अलग प्रकार से पलटों के साथ बोलना बोलतान कहलाता है। बोलताना का सही सही मतलब यह होता है कि किसी भी गीत, राग के बोलों को अलग अलग तरीके से तान के रुप में पेश करना और यह प्रकार गायन में बहुत मधुर लगता है। इस तान को गाते वक्त इस बात का विशेष ध्यान रखना पड़ता है कि किस बोल पर ज़्यादा ज़ोर देना है।

(8) कूट तान :–जिस तान में टेढ़े मेढ़े स्वरों का प्रयोग होता है, वह कुट तान कहलाती है।

(9) मिश्र तान :–इस तान में शुद्ध और कुट तान के स्वरों का मिश्रण होता है।

(10) घुमाऊ तान (स्वरों को घुमाने वाले दिन) इस तन में स्वरों को गोल-गोल घुमाया जाता है।

(11) झटके की तान :–दोस्तो जब हम किसी भी तान को दरुत लय में गा या बजा रहे हों लेकिन अचानक से उसे चौगुण लय में गाने या बजाने लगे तो उसे झटके की ताल कहते हैं ऐसी तान को गाते बजाते वक्त ताल ध्यान रखना भी जरूरी है

नोट:—दोस्तो इन सब प्रकारों के इलावा तानों के कुछ और भी प्रकार हैं जैसे कि अचरक तान, लंडत तान, गिटकरी तान, हलक तान, पलट तान, खटके की तान, सरोक तान, शुद्ध तान, सपाट तान आदि,इन सब तानों के बारे में हम इस पोस्ट के दूसरे भाग में विस्तार से जानेंगे

तो दोस्तो ये थी तानों के बारे में कुछ विस्तार से जानकारी मुझे पूरी उम्मीद है आपको इस पोस्ट का यह पहला भाग पढ़ने से काफी नॉलेज मिली होगी। अब आपको बताते हैं कि संगीत में ग़मक क्या होता है और कितने प्रकार का होता है?

भारतीय शास्त्रीय संगीत में ग़मक क्या होता है ? और कितने प्रकार का होता है?

ग़़मक की परिभाषा–स्वरों के हिलने को ग़मक कहते हैं जो श्रोताओं को सुनने में बहुत अच्छा लगता है। संगीत के प्राचीन ग्रंथकार गमक के 15 प्रकार मानते थे जिनमें से आज आधुनिक काल में ग़मक को कुछ दूसरे नाम देकर पुकारा जाता है जैसे कि खटका,मुरकी,मींड,जमजमा,गिटकीडी़, इन सब शब्दों का प्रयोग उन सवरों पर होता है जिन पर ज़्यादा आंदोलन होता है और जिनको एक गायक अपने पूरे मन से गाता है,

अब आपको बताते हैं कि ग़मक के कितने प्रकार के होते हैं :–

(1) कंपित ग़मक :–इस ग़मक मैं सितार या वीणा के किसी खास सवर पर उंगली रख कर उसको हिलाया जाता है और उससे कंपन पैदा होता है, गायक किसी एक सवर पर गले से कंपन पैदा करता है। जैसे कि स आ आ आ.. ग आ आ आ… म आ आ आ..

(2) आंदोलित ग़मक :–इस ग़मक के अनुसार किसी खास सवर पर आंदोलन किया जाता है। किसी सवर के आगे या पीछे वाले स्वर की मदद से उसको झूले की तरह हिलाया जाता है,इस ग़मक में कण या सर्पश स्वर का ज्यादा महत्व होता है।

(3) आहत ग़मक :– आगे पीछे वाले स्वर को झटका देकर किसी स्वव को गाना ये आहत ग़मक कहलाता कहलाता है। इसको आजकल खटका भी कहा जाता है। खटका बोलने के लिए स्वर के आगे पीछे स्वर को झटका देना पड़ता है।

(4) प्लावित ग़मक :–किसी एक स्वर से दूसरे स्वर तक ध्वनि को खंडित किए बिना जाना यह पलावित ग़मक कहलाता है। आधुनिक समय में इस ग़म को मींड कहते हैं।

(5) उलहासिक ग़मक:–इस ग़्मक में नीचे से लेकर ऊपर तक के स्वरों को क्रमवार हिलते हुए जाना होता है इसको गदगदीत ग़मक भी कहते हैं,

(6) वलि ग़मक :–इस ग़मक की चाल वकर होती है। इसमें स्वरों को चक्कर लगाकर घुमाया जाता है। जैसे कि सरेनीस, रेगसरे गमरेस,

(7) ञीभिन ग़मक :–एक या उससे ज़्यादा सवरों को जल्दी-जल्दी तीनो सपतकों में गाना ञिभिन ग़मक कहलाता है जैसे कि गम गम गम, आधुनिक समय में इसको पुकार कहा जाता है,

नोट:—दोस्तो इन सब प्रकारों के इलावा ग़मकों के कुछ और भी प्रकार हैं जैसे कि आहत ग़मक, मुद्रित ग़मक, मिश्रित ग़मक, नामिल ग़मक, हुम्फित ग़मक, तिरिप ग़मक, लीन ग़मक, सफुरित ग़मक, कुरूल ग़मक, आदि इन सब ग़मकों के बारे में हम इस पोस्ट के दूसरे भाग में विस्तार से बात करेंगे

नोट:—दोस्तो अगर आपका इंडियन क्लासिकल म्यूजिक से रिलेटेड कोई भी सवाल हो या आप कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके मुझे बता सकते हैं। और अगर आप किसी खास विषय पर कोई पोस्ट पढ़ना चाहते हैं और आप चाहते हैं कि मैं उस विषय पर पोस्ट लिखूं या फिर आप हरमोनियम या कीबोर्ड पर किसी खास गीत,ग़ज़ल,भजन या कवाली को गाना और बजाना सीखना चाहते हैं और आप चाहते हैं कि मैं उसकी नोटेशन बनाकर वीडियो बनाऊूं तो आप उसके बारे में भी इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके मुझे बता सकते हैं। मैं उस विषय पर पोस्ट लिखने की और वीडियो बनाने की पूरी कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!