Mr Jollys Music Classes

These 10 Subtleties of Music Can Make your Singing a lot better (Part-1)

Spread the love

Rate this post

These 10 Subtleties of Music Can Make your Singing a lot better

                 🙏🎹🇭🇲🎤🇨🇦🎷🇦🇮🎵🇲🇾🎶🇱🇷🎹🇰🇷🎻🇬🇧🇳🇪🙏
🎹🎼🎤Friends, today’s post is Especially for those people who are learning singing or have learned singing, but this post will also prove to be very knowledgeable for those who want to learn harmonium, keyboard or piano or have already learned, Because in today’s post I am going to tell you about some such nuances of music,  which if you use properly in your singing in your Riyaz and in your stage performance, then you will get a lot of applause and your program will be 100% will be successful but you should use these nuances in your program only as much as is necessary. if you use it, your program will be full of Entertainment and those who watch your program will be convinced that you have a good knowledge of music and because of that you can get many more programs, friends, this post will not take you too long and don’t get bored reading this That’s why I will write this post in two parts, Part No. 1 and Part No. 2, this is the first part and I will write the second part as soon as possible, These 10 Subtleties of Music Can Make your Singing a lot better (Part-2) if you read these two parts well, then you will have a big idea about these 10 points. You will get to know very well and if you follow them then you will get a lot of benefit and you will get name, money, fame whatever you want in the field of music, you will get it very easy and very soon you If you achieve that, then what are those 10 nuances, now let us tell you about them one by one:–
 
  (1) First is Alankar (Musical Ornaments) Friends when you start learning music you are at beginner level in music then you learn Alankar but you must be thinking that Alankar is necessary only for learning music, your fingers on harmonium or keyboard It is necessary to start walking, then you are thinking this wrong, if you come to sing and play many types of ornaments,Top 20 Advance Lavel Musical Ornaments (Alankaar) Part-1 then you use them in your songs, ghazals, bhajans and in any stage performance anywhere. So you can sing any song, ghazal, or bhajan very well and when you sing those ornaments in a song, then those who listen to that song will love it, so you should learn as many alankars as you can and Also learn to use them in your songs in your stage performance, if you become successful in doing so then your song or stage performance will be very good which will touch people’s hearts,
 
 
 
  (2) The second point is Taan, friends, when you start learning music, (Especially Indian classical and folk music) first you learn alankar, after that you start learning ragas, then when you prepare for ragas, at that time you have to learn taan too but you are thinking It may be that the taan is useful only in ragas or it is useful only when singing in ragas,  but it is not that the taan that you learn during ragas will be of great use to you in the future , you can use them in any song, ghazal. You can do bhajans, qawwali anywhere, and the better way you use them, the better your performance will be, so first you should prepare the taans well and after that you can make them very good in your performance.Raga Definition and Taan (Raga-Darbari Kanhada) When you use them in a good way in your performance, then your form becomes very good and whatever song, ghazal, bhajan you sing in whatever program it sounds great so you can use ragas. Simultaneously, prepare your taan very well and show them in your Riyaz and your performance. Learn to use o so that your performers can be great,
 
  (3) The next point is Boltaan friends, just like taans, if you sing them in any song in your performance, anywhere during your performance in Bhajan in ghazal, then your performers also look very good, taans And the difference between speaking is that when you sing taan, only notes have to be uttered in it in a fast rhythm like SG Mg Pd MP gM PM gR SS and when you sing boltaan, the notes are there instead of those which are there. Words are in your song, in ghazal, in hymn, you have to say instead of taan such as :- MoS SS han, Mus Ras SS riS (Mohan Murari ( SS Means Silent Space —-) When you sing Boltaan in a song, Ghazal, Bhajan, it will attract a lot of attention to the listeners. Looks great and the audience enjoys a lot, so along with taan prepare Boltaan well and learn to use them in your Riyaz and performances and start,
 
 

  (4) The next next point is Alaap, friends, in music like Alankar, Taan, Boltaan, all these are a very big part of music, similarly Aalap also has a big role in music if you like Alankar, Taan, Boltan, all these things. If you learn to sing aalap well, then you can go ahead to become a successful singer, musician, or instrument player, you also get a lot of knowledge of alap like Alankar, Taan, Boltan, You can sing aalap in the beginning of any song, ghazal, bhajan to show the nature of a raga or the heart of your song or you can also sing it in the last of any song, ghazal, bhajan if you want to sing your singing. If I use aalap, then your singing will sound very good and your performance will also be very good.How do music learners can know whether we are learning music Right or Wrong? (Part-2) It also becomes easy, so if you want to become a singer musician or instrument player, then you should have a good knowledge about Aalap,

 
 
 
   (5) The next point is Khatka friends like Alankar, Taan, Boltaan, Aalaap, all these are a special part of singing, similarly Khatka is also a main part of singing, in the same way if you include all these as well as Khatke in your singing. If you use it, it will also be very good for you, your stage performance will be much better than that and the listeners will realize that you have a good knowledge of music, so along with all this, you should also learn to sing khatka , so that You can go ahead and use it, friends, only the 5 points that are left in this post, I will tell you in the next post, so you should read that post very carefully so that you will get these 10 subtleties of music. I am telling you that you should know a lot about them and by using them in your singing, you can make your stage performance much best and better, 
 
 
Note:–if you have any Question or Suggestion, then you can tell me at the bottom of this post or on my youtube channel Mr. jolly’s Music classes’ You can tell by commenting below any video of.
 
Note:–You can also Visit and Subscribe to My YouTube channel  Mr.Jollys Music Classes to See Knowledgeful Videos of Theory and Practical related to Music,

संगीत की ये 10 बारीकियां आपकी गायकी को और भी बेहतर बना सकती हैं।

नोट: अगर आपको अक्षर सही से दिखाई ना दें तो आप chrome में Dark mod इनेबल करके पढ़ लें

    🙏🇱🇷🎶🇦🇮🎵🇭🇲🎼🇬🇧🎹🥫🇲🇾🎷🇨🇦🇳🇪🙏

🎹🎼🎻दोस्तो आज की यह पोस्ट स्पेैशली उन लोगों के लिए है जो सिंगिंग सीख रहे हैं या फिर सिंगिंग सीख चुके हैं लेकिन यह पोस्ट उनके लिए भी बहुत नॉलेजफुल साबित होगी जो हारमोनियम, कीबोर्ड या फिर पियानो सीखना चाहते हैं या फिर सीख चुके हैं, क्योंकि आज की इस पोस्ट में मैं आपको संगीत की कुछ ऐसी बारीकियों के बारे में बताने जा रहा हूं जिनको अगर आप अपने रियाज़ में अपने गायन में और अपनी स्टेज परफॉर्म में सही तरीके से इस्तेमाल करेंगे तो आपको बहुत वाहावाही मिलेगी और आपका प्रोग्राम 100% परसेंट कामयाब होगा लेकिन आप इन बारीकियों को अपने प्रोग्राम में सिर्फ उतना ही यूज़ करना जितना ज़रूरत हो अगर आप इन बारीकियों का अपने प्रोग्राम में गायन में ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल करेंगे तो वह सही नहीं होगा पर अगर आप इन बारीकियों को सही तरीके से सही जगह पर इस्तेमाल करेंगे तो आपके प्रोग्राम में चार चांद लग जाएंगे, और आपका प्रोग्राम देखने सुनने वालों को ये यकीन हो जाएगा कि आपको संगीत की अच्छा खासा ज्ञान है और उसके कारण आपको कईं और प्रोग्राम मिल सकते हैं दोस्तो यह पोस्ट आपको ज़्यादा लंबी ना लगे और आप इसे पढ़ने में बोर ना हों इसलिए यह पोस्ट में दो पार्ट में लिखूंगा पार्ट नंबर 1 और पार्ट नंबर 2 यह पहला पार्ट है और मैं जल्दी से जल्दी इसका दूसरा पार्ट भी लिख दूंगा अगर आप इन दोनों पार्ट्स को अच्छी तरह पढ़ लेते हैं तो आपको इन 10 पॉइंट के बारे में बड़ी अच्छी तरह से पता चल जाएगा और अगर आप इनको फॉलो करोगे तो आपको बहुत ज़्यादा बेनिफिट होगा और आपको नाम, पैसा, शौहरत जो भी आप संगीत के फील्ड में पाना चाहते हैं, वह सब पाने में आप को बड़ी आसानी हो जाएगी और बहुत जल्दी आप उसे हासिल कर लेंगे तो वो 10 बारीकियां कौन-कौन सी हैं चलिए अब एक-एक करके आपको उनके बारे में बताते हैंं:–

(1)सबसे पहला है अलंकार दोस्तो जब आप संगीत सीखना शुरू करते हैं आप संगीत में बिगनर लेवल पर होते हैं तो तब आप अलंकार सीखते हैं मगर आप सोच रहे होंगे कि अलंकार सिर्फ संगीत सीखने के लिए ज़रूरी हैं, हारमोनियम या कीबोड पर आपकी उंगलियां चलने लग जाएं इसके लिए ज़रूरी हैं तो आप यह गलत सोच रहे हैं, अगर आपको कई तरह के अलंकार गाने और बजाने आते हैं तो आप उन अलंकारों को अपने गीत, गज़ल, भजन में और कहीं पर भी किसी भी स्टेज परफॉर्मेंस में उनको यूज करते हैं तो आप किसी भी गीत,गज़ल,या भजन का बहुत अच्छा शिंगार कर सकते हैं और जब आप उन अलंकारों को किसी गीत में गाएंगे तो वह गीत सुनने वालों को बहुत ही अच्छा लगेगा इसलिए आप जितना हो सके ज़्यादा से ज़्यादा अलंकार सीख लें और उनको अपनी स्टेज परफॉर्मेंस में अपने गीतों में यूज़ करना भी सीख लें, अगर आप ऐसा करने में सक्सेसफुल हो जाते हैं तो आप का गाना या स्टेज परफॉर्मेस बहुत बढ़िया होगी जो लोगों के दिलों को छू लेगी, 

(2) दूसरा पॉइंट है तानें, दोस्तो जब आप संगीत सीखना शुरू करते हैं सबसे पहले आप अलंकार सीखते हैं उसके बाद आप राग सीखना शुरू करते हैं तो जब आप रागों की तैयारी करते हैं उस वक्त आपको तानें भी सीखनी पड़ती हैं लेकिन आप सोच रहे होंगे कि तानें सिर्फ रागों में ही काम आती है या रागों में गाने के ही टाइम ही काम आती है लेकिन ऐसा नहीं है जो तानें आप रागों के दौरान सीखते हैं वह आगे जाकर आपके बहुत ज्यादा काम आती हैं उनका प्रयोग आप किसी भी गीत, गज़ल, भजन, क़व्वाली में कहीं पर भी कर सकते हैं और आप उनका इस्तेमाल जितने अच्छे तरीके से करेंगे आपकी परफॉर्म उतनी ही अच्छी होगी इसलिए सबसे पहले आपको तानों की तैयारी अच्छी तरह से कर लेनी चाहिए और उसके बाद आपको आप उनको अपनी परफॉर्मेस में बहुत अच्छे तरीके से यूज़ करना चाहिए जब आप उनको अपने अपनी परफॉर्मंस में अच्छे तरीके से यूज करते हैं तो आपकी फॉर्म्संस बहुत बढ़िया हो जाती है और जो भी गीत, गज़ल, भजन आप जिस भी प्रोग्राम में गाते हैं वह बहुत बढ़िया लगता है इसलिए आप रागों के साथ साथ तानों की भी तैयारी बड़े अच्छे तरीके से कीजीए और अपने रियाज़ और अपनी परफॉर्मंस में उनको यूज़ करना सीखिए तांकि आपकी परफॉर्मर्स बढ़िया हो सके,

(3) अगला पॉइंट है बोलतानें दोस्तो तानों की तरह ही बोलतानों को भी अगर आप अपनी परफॉर्मंस में किसी भी गीत में गज़ल में भजन में अपनी परफॉर्मेंस के दौरान कहीं भी उनको आप गाते हैं, तो उससे भी आपकी परफॉर्मर्स बहुत बढ़िया लगती है, तानों और बोलतानों में फर्क यह होता है कि जब आप तानें गाते हैं तो उसमें द्रुत लय में सिर्फ स्वरों को ही बोलना होता है जैसे कि सग मग पध मप गम पम गरे सस और जब आप बोलतानें गाते हैं तो उसमें जो स्वर होते हैं उनकी जगह जो शब्द आपके गीत में गज़ल में भजन में होते हैं आपको तानों की जगह बोलना होता है जैसे कि :–मोS SS SS हन, मुS राS SS रीS जब आप बोलतानें किसी गीत, गज़ल, भजन में गाते हैं, तो वो सुनने वालों को बहुत बढ़िया लगती हैं और दर्शकों को बहुत आनंद आता है, इसलिए आप तानों के साथ-साथ बोलतानोम की भी तैयारी अच्छी तरह कीजिए और अपने रियाज़ और परफॉर्मंस में उनको यूज करना सीखिए और शुरू कर दीजिए,

(4) अगला अगला पॉइंट है आलाप, दोस्तो जैसे संगीत में अलंकार, तान, बोलतान यह सब संगीत का बहुत बड़ा हिस्सा हैं ऐसे ही आलाप का भी संगीत में बहुत बड़ा रोल है अगर आप अलंकार, तान, बोलतान,इन सब की तरह आलाप को भी अपने गायन में शामिल करते हैं अगर आप आलाप को अच्छी तरह गाना सीख लेते हैं तो आपआगे जाकर एक कामयाब सिंगर, संगीतकार,या इंस्टूमेंट प्लेयर बन सकते हैं, आपको अलंकार, तान, बोलतान, की तरह आलाप की भी अच्छी खासी जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए आप आलाप को किसी भी गीत, गज़ल, भजन की शुरुआत में किसी राग का स्वरूप या अपने गीत का सकेल दिखाने के लिए गा सकते हैं या फिर किसी गीत, गज़ल, भजन के लास्ट में भी गा सकते हैं अगर आप अपने गायन में आलाप को इस्तेमाल करते हैं तो उससे भी आपका गायन बहुत बढ़िया लगेगा और आपकी प्रोफॉर्मास भी बहुत अच्छी हो जाएगी आलाप सीखने से आपको एक और फायदा यह होता है कि आपकी एक तो सवरों पर पकड़ मजबूत होती है और आपको उंच्चे से उंच्चे स्वर लगाने में भी आसानी हो जाती है इसलिए अगर आप एक सिंगर संगीतकार या ईंस्टूमेंट प्लेयर बनना चाहते हैं तो आपको आलाप के बारे में अच्छी खासी जानकारी होनी चाहिए,

 (5) अगला पॉइंट है खटका दोस्तो जैसे अलंकार, तान, बोलतान, आलाप, यह सब गायन का खास हिस्सा हैं ऐसे ही खटका भी गायन का एक मुख्य अंग है ऐसे ही अगर आप इन सब के साथ-साथ खटके को भी अपने गायन में इस्तेमाल करेंगे तो वो भी आपके लिए बहुत अच्छा होगा उससे भी आपकी स्टेज परफॉर्मेस बहुत बेहतर होगी और सामने सुनने वालों को यह अहसास हो जाएगा कि आपको संगीत की अच्छी खासी नॉलेज है इसलिए आप इन सब के साथ-साथ खटका भी गाना सीख लें, तांकि आप उसको आगे जाकर यूज कर सकें, बस दोस्तो इस पोस्ट में इतना ही बाकी के जो 5 पॉइंट जो बचे हैं, उनको मैं अगली पोस्ट में आपको बताऊंगा इसलिए आप उस पोस्ट को भी बड़े ध्यान से पढ़ लेना तांकि आपको यह 10 संगीत की बारीकीयां जो मैं बता रहा हूं इनके बारे में आपको अच्छी खासी जानकारी हो जाए और आप अपने गायन में इनको इस्तेमाल करके आप अपनी स्टेज परफॉर्ंस को बहुत बेहतर और बढ़िया बना सकें, 

नोट:–अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप मुझे इस पोस्ट के नीचे या मेरे यूट्यूब चैनल ‘मिस्टर जॉलीज म्यूजि़क क्लासस’ के किसी भी वीडियो के नीचे कमेंट करके बता सकते हैं।

Note:–Click on the image of your favorite and Best Quality instrument to purchase.

 
 
 
 


Spread the love
Exit mobile version