Mr Jollys Music Classes

Harmonium, keyboard, piano lessons, Indian Classical and folk Music Lessons, Indian Ragas Lessons, Indian Rhythms Lessons, Raga Definitions,Songs Notations, Bhajan Notations, Singing Tips, Indian Music Theory Lessons, Vocal Practice Tips,

Mr Jollys Music Classes
Raga Lessons

Raga Definition and Taan (Raga-Kafi)

Spread the love

Rate this post

      Raga Definition and Taan Raga-Kafi

            🙏🎼🇬🇧🎹🇦🇮🎶🇰🇷🇭🇲🎻🎷🇲🇾🎵🇨🇦🎤🇱🇷🎹🇭🇲🎤🇳🇪🙏

 

 

🎹🎤🎶Friends, whenever someone learns music, especially Indian classical music, he has to learn 3 ragas in the beginning. First is Bhairav, second is kafi and third is Khammaz, I have written a post earlier on the definition and taunts (taan)of Raag Bhairav. If you have not read it, then you must read it, in today’s post we will learn the definition and taan of raga kafi, Raga kafi is one of the main ragas of Indian classical music. Friends, singing and playing this raga is not very difficult because it takes very easy swaras (Notes). If we talk about the swaras in this raga, then the g and n notes are half tone in this raga. All other notes are full tone, the Jatti (Tonal Classification) this raga is Sampurna-Sampurna, That is, 7-7 notes are used in both ascending and descending, And the Thaat of this raga is also kafi,

 

 

               Definition of Raga- Kafi

                   

(1) Raga -kafi

(2) Thaat-kafi

(3) Jaati-Sampurn-Sampurn (7-7)

(4) Vaadi Swar:–P

(5) Samvaadi Swar:–S

(6) Restricted Notes–(No)

(7) Time of singing:–first half of the night

(8) Half tone:-(g) and (n)

(9) Aroh :– S R g M P D n S°

(11) Avroh :–S° n D P M g R S

(12) Paked:–SS, RR, gg, MM, P —

 

 

 

 

            Taan of Raga kafi

 

(1) SR gM gR gM PM gR Mg RS

(2) SR gM PM gR PM DP Mg RS

(3) SR gM gR S– MP DP Mg RS

(4) Rg Mg Rg MP Dn DP Mg RS

 

 

Some Papulor Bollywood movies Songs Based on Raga kafi

 

(1) Gairon pe karam, apno pe sitam, ai

 jaane wafa yeh Zulm na kar (Aankhen 1968)

 (2)Balma aan baso more man mein (Devdas)

 (3)Biraj me holi khelat nand lal (Rahi 1953)

 (4) Kali Ghodi Dwar Khadi (Chashme Baddur 2012)

 (5) Ishq ki garmiye jazbaat kise pesh karoon (Ghazal 1964)

 (6) Kaase Kahoon Mann Ki Baat (Dhul Ka Fool 1959)

 (7)Tum nahi gham nahi sharab nahi (Ghazal) Jagjit Singh ji

 

 

       

 

 Meaning of Some Words of Music

 

(1)Swar — Notes

(2) Thaat — Scale

(3) Jatti –Tonal Classification 

(4) Pakad— Group of Notes

(5) Vaadi Swar– Sonant Notes

(6) Samvaadi Swar — Consonant Notes

(7) Raag — Raga 

(8) Aroh –Ascending

(9) Avroh–Descending

 

 

You can also Visit and Subscribe to My YouTube channel Mr.jolly’s Music Classes to See Knowledgeful Videos of Theory and Paractical related to Music,

 

 

 

                           राग काफी की परिभाषा और तानें 

🙏🎼🇬🇧🎹🇦🇮🎶🇰🇷🇭🇲🎻🎷🇲🇾🎵🇨🇦🎤🇱🇷🎹🇭🇲🎤🇳🇪🙏

 

🎹🎧🎤दोस्तो, जब भी कोई संगीत सीखता है, खास करके इंडियन क्लासिकल म्यूजिक सीखता है तो उसको शुरू शुरू में 3 राग सीखने पड़ते हैं। सबसे पहला है भैरव दूसरा है काफी और तीसरा है खम्माज, राग भैरव की परिभाषा और तानों पर मैं पहले एक पोस्ट लिख चुका हूं। अगर आपने वो नहीं पड़ी है तो आप उसे जरुर पढ़ लेना,आज की इस पोस्ट में हम काफी की परिभाषा और तानें सीखेंगे,दोस्तो राग काफी इंडियन क्लासिकल म्यूजिक के प्रमुख रागों में से एक है।दोस्तो राग काफी इंडियन क्लासिकल म्यूजिक के प्रमुख रागों में से एक है।दोस्तों यह राग गाना और बजाना ज़्यादा मुश्किल नहीं है क्योंकि इसमें बहुत ही आसान से स्वर लगते हैं।अगर इस राग में स्वरों की बात करें तो इसमें ग और नी स्वर कोमल लगते हैं। बाकी सारे स्वर शुद्ध होते हैंइस राग की जाति संपूर्ण संपूर्ण है। यानी आरोह और अवरोह दोनों में 7-7 सुरों का इस्तेमाल होता है और इस राग का थाठ भी काफी ही है।

 
 

        राग काफी की परिभाषा

 
 (1)राग – काफी
 (2) थाठ-काफी
 (3) जाति- सम्‍पूर्ण- सम्पूर्ण (7-7)
 (4) वादी स्वर:-प
 (5) संवादी स्वर:–स
 (6) वर्जित स्वर ( कोई नहीं)
 (7) गायन का समय:–रात्रि का दूसरा प्रहर
 (8) कोमल स्वर :– गॖ और नीॖ
 (9) आरोह :– स रे गॖ म प ध नीॖ सं
 (10) अवरोह :– सं नीॖ ध प म गॖ रे स
 (11) पकड़ :–स स, रे रे, गॖ गॖ, म म, प–
 

                 तानें

 (1)सरे गॖम गॖरे गॖम पम गॖरे मगॖ रेस
 (2)सरे गॖम पम गॖरे पम धप मगॖ रेस
 (3)सरे गॖम गॖरे स– मप धप मगॖ रेस
 (4)रेगॖ मगॖ रेगॖ मप धनीॖ धप मगॖ रेस
 
 
 

राग काफी पर आधारित कुछ (बोलीवुड) फ़िल्मों के गीत

 
(1)गैरों पे कर्म अपनो पे सितम, ओ जाने वफ़ा ये ज़ुल्म ना कर (आंखें 1968)
(2)बलमा आन बसो मोरे मन में (देवदास)
(3)ब्रिज में होली खेलत नंद लाल (राही 1953)
 (4)काली घोड़ी दुआर खड़ी (चशमे बददुर 2012)
(5)इश्क की गर्मीए जज़बात किसे पेश करूं (गज़ल 1964)
(6)कासे कहूँ मन की बात (धुल का फुल 1959)
(7)तुम नहीं ग़म नहीं शराब नहीं (गज़ल) जगजीत सिंह जी
 

Note:– Click on the Image of your favourite and Best Quality instrument to perchage

 

 

 


Spread the love

Mr.jollys Music Classes

Hello friends, My Name is Kulwinder Jolly (Mr.jolly) I am a Youtuber and Writer.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!