How to Understand and learn the Notations of any song, hymn, Bandish in music ?/Singing tips and tricks,

Spread the love

Rate this post

 

How to Understand and learn the Notations of any song, hymn, Bandish in music ? /Singing tips and tricks,

    

    🙏🇱🇷🎶🇦🇮🇰🇷🎼🇬🇧🎹🇭🇲🎻🇲🇾🎤🇨🇦🎵🇳🇪🙏

🎹🎤🎵Friends, thoses peoples whatever are learning music, I am not talking about those which is at an advanced level. I am talking about those who are music beginners, and so those peoples don’t know about notation. (This Post Especially for Indian classical and folk music learners) They don’t know how the notation is written, and what it means. Many times he gets confused by looking at the notation of any song, ghazal, bhajan, or raga, so in today’s post we will talk about the notation itself. But before moving forward in this post, I would like to tell you all. That if you do not know how to make the notation of any song, ghazal, bhajan, then I have made a video on this subject, which is title, ‘How to make notation of any song (English Subtitles) | How to find notation of any song | नोटेशन’ and a post has also been written. that’s titles is ‘How to make notation of any song or How to find notation of any song’ If you would like more information on this topic. If you do not know how to make notation, then you must watch that video and read that post too, if you will watch that video and read that post, then you will learn the notation of any song, ghazal or bhajan very easily. so let’s now talk on the main topic of this post. So friends, you watch many videos on YouTube. The music masters in them tell you about the notation of ragas,and it happens in some ragas and notation books also, some numbers are written on the notation of those ragas and some of them are drawn by drawing lines. Departments are made. Somebody’s four, somebody’s three, somebody’s two,
Read More:–How do music learners identify? which song is based on which raga?

     The easiest and correct way to understand the notation of any song, ghazal, bhajan or raga .

     So now let us tell you what is the easiest way to understand the notation of any song, ghazal, bhajan or raga? And that way is that first of all you have to know about the taal (rhythms) although there are many taal in Indian classical music, but in the beginning, you should take information about the main 10 taal of Indian classical music, and those 10 taal Which are which, I have also made a video on them and a post has also been written. So first of all watch that video and read that post as well.video title is संगीत सीखने वालों को इन 10 तालों का ज्ञान होना जरूरी है# Music learners should knows the 10 rhythms  and Post title is To become Singer or Musician, it is necessary to have knowledge of these 10 Rhythms.’ You will know when you watch that video and read the post. What are the main 10 taal in Indian classical music, so the easiest way to understand the notation of any song, ghazal, bhajan or raga, is that the count is written on it according to the rhythm That is, if the count of 6 matras (volume) is written on top of any notation, then understand that that notation is rhythmic in Dadra Taal. If someone has written the count of 8 matras above, then understand that he is in Keherwa Taal. If someone has 16 quantities written on him, then understand that he is rhythmic in Teentaal, and there are some such marks ( + * ) in the books that are there. They mean sum (Starting point of any rhythm) and sum means that from where the rhythm starts, it is called sum and some such (0 2 4 6 ) count is also written. It means clap or empty. So friends I am sure you must have come to know to a great extent about the recognition of notation of any song, ghazal, bhajan and if you how to make notation of any song, ghazal, bhajan. How do music learners identify? which song is based on which raga? If you want to know in detail on this topic, then I have made a video on this subject and a post has also been written. If you like my youtube channel ‘Mr.jollys Music Classes’ You can watch that video by visiting jolies music classes and also read that post on my same website, by watching video and reading post you will know how to make notation of any song ghazal bhajan? So friends, that’s all in today’s post, if you have not understood anything, you have any question, or have any suggestion, then you can tell me by commenting below this post.

     Thank you all so very much ! (all of my foreigner’s Readers)

     Friends, people who live in foreign countries such as USA, UK, German, France, Italy, Ireland, Sweden, Canada, Denmark, Finland, Russia and many more countries,  they like all my posts very much. Top 10 Best Stage Performance Tips for all Singers and Musicians of all this World I am reading and I thank all of them very much, I will try to write more such posts related to Indian classical music in future if you want to read any post on any particular topic of Indian classical and folk music. If yes then you can tell me by commenting below this post and if you want any video on any particular topic then you can subscribe my youtube channel Mr. jollys Music Classes You can tell by commenting below any video of Mr.jollys Music Classes i will try my best to make a video on that topic as well, thank you very much again Kulwinder Jolly (Mr.Jolly)
Read More:–Introduction of kulwinder Jolly (Mr.jolly) Mr.jolly Introduction मेरा परिचय mr.jolly

You can also Visit and Subscribe to MyYouTube channel Mr.jolly’s Music Classes to See Knowledgeful Videos of Theory and Practical related to Music,

Note:–You can also follow me on my podcast channels to learn and understand music more easily where I upload music audio episodes.

(1) Anchor FM (2) Khabri app

   संगीत में किसी भी गीत, भजन, बंदिश की नोटेशन को कैसे समझें और सीखें ?

🙏🇱🇷🎶🇦🇮🇰🇷🎼🇬🇧🎹🇭🇲🎻🇲🇾🎤🇨🇦🎵🇳🇪🙏

🎹🎤🎵दोस्तो जो भी लोग संगीत सीख रहे हैं, जो एडवांस लेवल पर है, उनकी मैं बात नहीं कर रहा हूं। लेकिन जो लोग संगीत बिगनर हैं, वह नोटेशन के बारे में नहीं जानते हैं। उनको नहीं पता चलता है कि नोटेशन कैसे लिखी गई है, और इसका क्या मतलब है। कईं बार वह किसी भी गीत, ग़ज़ल, भजन, या राग की नोटेशन को देखकर कंफ्यूज हो जाते हैं तो आज की इस पोस्ट में हम नोटेशन के बारे में ही बात करेंगे।लेकिन इस पोस्ट में आगे बढ़ने से पहले मैं आप सब को बताना चाहूंगा कि अगर आपको किसी भी गीत, ग़ज़ल, भजन की नोटेशन नहीं बनानी आती है तो इस विषय पर मैंने एक वीडियो बनाई हुई है जिसका नाम है, ऐसे बनाते हैं किसी गीत की नोटेशन और एक पोस्ट भी लिखी हुई है। अगर आप इस विषय पर और अधिक जानकारी चाहते हैं। आपको नोटेशन नहीं बनानी आती है तो आप उस वीडियो को ज़रूर देख लें और उस पोस्ट को भी जरूर पढ़ लें, अगर आप उस वीडियो को देख लेंगे और उस पोस्ट को पढ़ लेंगे तो आपको किसी भी गीत,गज़ल या भजन की नोटेशन बड़ी आसानी से बनानी आ जाएगी,तो चलिए अब इस पोस्ट के मेन टॉपिक पर बात करते हैं।तो दोस्तो आप बहुत सारे यूट्यूब पर वीडियो देखते हैं। उनमें जो संगीत सिखाने वाले मास्टर होते हैं, वह आपको रागों की नोटेशन के बारे में बताते हैं,और कुछ राहों और नोटेशन की किताबों में भी ऐसा होता है, उन रागों की नोटेशन के ऊपर कुछ गिनती लिखी होती है और और लाईने खींचकर उनमें कुछ विभाग बने होते हैं। किसी के चार किसी के तीन किसी के दो होते हैं, 

किसी भी गीत, गजल, भजन या राग की नोटेशन को समझने का सबसे आसान और सही तरीका।

तो अब आपको बताते हैं कि किसी भी गीत गज़ल, भजन या राग की नोटेशन को समझने का सबसे आसान तरीका क्या है ? और वो तरीका ये है कि सबसे पहले तो आपको तालों के बारे में जानकारी लेनी होगी, वैसे तो इंडियन क्लासिकल म्यूजिक में बहुत सारी तालें हैं, लेकिन आप शुरू में भारतीय शास्त्रीय संगीत की मुख्य 10 तालों की ही जानकारी ले लें, और वो १० तालें कौन-कौन सी हैं, उन पर मैंने एक वीडियो भी बनाई हुई है और एक पोस्ट भी लिखी हुई है। तो सबसे पहले आप उस वीडियो को देख लें और उस पोस्ट को भी पढ़ लें। जब आप उस वीडियो को देख लेंगे और पोस्ट पढ़ लेंगे तो आपको पता चल जाएगा। भारतीय शास्त्रीय संगीत में मुख्य 10 तालें कौन कौन सी हैं,तो किसी भी गीत ग़ज़ल, भजन या राग की नोटेशन को समझने का सबसे आसान तरीका यही है कि उसके ऊपर जो गिनती लिखी हुई होती है, वह तालों के हिसाब से होती है। यानी कि अगर किसी नोटेशन के ऊपर 6 मातरा की गिनती लिखी होगी तो समझ लेना कि वो नोटेशन दादरा ताल में लयबध है। अगर किसी ऊपर 8 मतरा की गिनती लिखी होगी तो समझ लेना वह कहरवा ताल में है। अगर किसी के ऊपर 16 मात्रा लिखी होगी तो समझ लेना वह तीनताल में लयबद्ध है,और जो किताबें होती है उनमें में ऐसे ( + * ) कुछ निशान होते हैं। इनका मतलब होता है सम और सम का मतलब होता है कि जहां से ताल की शुरुआत होती है, उसको सम कहते हैं और कुछ ऐसे (0 2 4 6 ) गिनती भी लिखी होती है। इसका मतलब होता है ताली या खाली।तो दोस्तो मुझे पूरी उम्मीद है आपको किसी गीत, गज़ल, भजन की नटेशन की पहचान के बारे में काफी हद तक पता चल गया होगा और अगर आप किसी भी गीत, गज़ल, भजन की नोटेशन कैसे बनाते हैं इस विषय पर विसतार से जानना चाहते हैं तो इस विषय पर मैंने एक वीडियो बनाई हुई है और एक पोस्ट भी लिखी हुई है। आप चाहें तो मेरे यूट्यूब चैनल मिस्टर. जोलीज़ म्यूजिक क्लासेस पर जाकर उस वीडियो को देख सकते हैं और मेरी इसी वेबसाइट पर उस पोस्ट को भी पढ़ सकते हैं, वीडियो देखने और पोस्ट पढ़ने से आपको पता चल जाएगा कि किसी भी गीत गजल भजन की नोटेशन कैसे बनाते हैं? तो दोस्तो आज की पोस्ट में बस इतना ही अगर आपको कुछ भी समझ में ना आया हो, आपका कोई भी सवाल हो, या कोई भी सुझाव हो तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके मुझे बता सकते हैं।

          आप सब का बहुत-बहुत धन्यवाद!

दोस्तो जो भी लोग फोरन कंट्रीस में रहते हैं जैसे कि यू.एस.ए, यूके, जर्मन, फ्रांस,इटली, आयरलैंड, स्वीडन, कनाडा,डैनमारक, फिनलैंड, रशिया और भी बहुत सारे देशों में तो वो मेरी सभी पोस्टस को बहुत पसंद कर रहे हैं और पढ़ रहे हैं मैं उन सब का बहुत बहुत धन्यावाद करता हूं मैं आगे भी भविषय में भारतीय शत्रीय संगीत से सम्बंधित ज्ञानर्वधक ऐसी ही पोस्टस लिखने की कोशिश करूंगा अगर भारतीय शत्रीय और लोक संगीत के किसी खास विषय पर आप कोई पोस्ट पढ़ना चाहते हैं तो आप मुझे इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके बता सकते हैं और अगर आप किसी खास विषय पर कोई वीडियो चाहते हैं तो आप मेरे युट्यूब चैनल मि. जोलीज म्युजिक कलासस के किसी भी वीडियो के नीचे कमेंट करके बता सकते हैं मैं उस विषय पर वीडियो भी बनाने की पूरी कोशिश करूँगा एक फिर से आपका बहुत बहुत धन्यवाद कुलविंदर जोली (मि.जोली )


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!