Definitions of Some Specific Words of Indian classical music (Part-1) | Indian Classical Music Theory

Definitions of Some Specific Words of Indian classical music (Part-1) | Indian Classical Music Theory

Spread the love

Rate this post

🙏🇱🇷🎶🇦🇮🎷🇬🇧🎶🇨🇦🎵🇲🇾🎼🇭🇲🥫🇰🇷🎹🇨🇦🎶🇳🇪🙏

Definitions of Some Specific Words of Indian classical music (Part-1) | Indian Classical Music Theory

🎶🎵🎤Friends, I have only one purpose of making this website and YouTube channel that I can give you complete information about all the subjects related to Indian Classical and Folk Music. And I have related to Indian Classical and Folk Music. I have also covered a lot of topics. And all the other topics related to Indian classical music, I am trying my best to do them all so that you can sit at your home and online through your mobile, laptop or computer. Learn music very easily without any guru and become a successful singer, musician or an instrument player in your life. How to become a Good Singer and Musician basic to advance Lavel And I am very happy that whatever post, article I am writing, or making videos I am You all are very fond of him. Apart from India, my work is getting a lot of love from abroad as well and my posts, articles and videos are being liked a lot there too. Like USA, UK, Germany, France, Italy, China, Korea, Russia,Ireland,Taiwan,Sweden,Canada,Mauritius,Denmark,NewZealand,Spain,Finland,Lithuania,apart from all these countries, my articles, posts and videos are being liked in many other countries. Whoever people are watching my videos and reading article posts. I thank them wholeheartedly, and I will try to give you more and better content in the future, so now let’s talk about the main topic of this post. Friends, this is the post I am writing. You will get to read this post in many parts, and in every post I will cover 5-5 topics, in this post also I am going to cover 5 topics,
Read More:–How to Become a Singer, Musician, Instrument Player or Music Teacher by Learning Music?

Friends, you must have heard many words related to Indian classical music. Like what is Ornament (Alankaar) ? What is a saptak (Octaves) ? What is Naad? Hindustani music system, kan, khatka, murki, need, gumak, chalan, Nayas, parstaar, male, mat, tirvar, upaz, ans, Aatai, aash, ang, alaptav, bhutav, dhamar, tarana, tirobhav, avirbhav, thaat, raga, thumari, dhrupad, khyal, chotha khyal, bada khyal, Tappa, aalap, ragaaalap, rupkaalap, sargam geet, Vaadi swar, samvadi swar, anuwadi swar, vivadi swar, utrang,purwang,kampan,sawarlipi,full tone notes, half tone notes, sharp tone notes, types of taan like such, shudha taan, mishar taan, danedaar taan, koot taan, Swarlipi, and many more such topics Which I will cover in this post series. If you are learning music or want to learn music and want to earn money and fame by becoming successful in the field of music, becoming a singer, musician, or an entertainment player, then you should read every post of this post series very carefully. This will prove to be very useful for you. And this knowledge will always be useful to you in your music career and will help you a lot to become a music scholar. Friends, on some of the topics I have told you above. A video has also been made. If you haven’t seen that video yet, you can watch that video by going to my YouTube channel Mr. Jollys Music Classes or by going to the main menu of this website and clicking on the page named My YouTube Videos. So let us now tell you in detail about the definitions of these special words related to Indian classical music:–
Read More:–These 10 Subtleties of Music Can Make your Singing a lot better (Part-2)

Topic No. 1 :- What is ornamentation (Alankaar) in music?

Definition: – A composition of vowels and letters, whose ascending and descending according to a particular rule, is called Alankara. Alankar consists of two parts ascending and descending. In Alankar, a particular trend of two, three, four or more vowels is fixed, all the vowels of its descent follow this rule. The Serial of the notes which is done in the ascending of the ornament, the opposite Serial is also kept in the descent. Just like in S R G M P D N S similarly its inverse is kept in the ornament as well. For example, in the S N D P M G R S the grace is also called a plata in ordinary language. And some people also call ornamentation as sargam,
Read More:–Top 20 Advance Lavel Musical Ornaments (Alankaar) Part-1

Topic No. (2) What is Aroh in music?

Definition :- Friends, Aaroh means to climb upwards, it is also called ascendant and it is a word of Sanskrit language.

If I explain to you in simple language, like you sing or play any Alankar on harmonium keyboard or piano when you sing or play it upwards like S R G M P D N S° like this then it is called It is called Aarohi or Aarohi i.e. to play on the upper side.

Topic No. (3) What is Avaroh in Music?

Definition :- The descending sequence of vowels is called Avaroh. It is also called Avarohhi and it is also a Sanskrit language word, when you play any Alankar, Sargam in reverse on Harmonium, Keyboard or Piano. . That is, if you play such Notes in S°N D P M G R S then it is called asaroh or descending,

Topic No. (4) What is a Palta (reflex ) in music?

Definition :- When singing and playing in music, when vocals and words are sung or played in reverse, it is called reflex. The word palata is also used a lot in tabla playing. When certain words of the law are played in reverse, it is also called reflex.

Topic No. (5) What are voices (Notes) in music called?

Definition :- Friends, the voice in music is said to be that voice which is melodious, melodious and attractive which can be distinguished from each other and on which it can be settled and which can be used easily, through which the mind feelings can be expressed. In vowel and consonant music, all the compositions are based on and the swaras (Notes) are made up of srutis.
Read More:–How do music learners can know whether we are learning music Right or Wrong? (Part-1)

Note :- Friends, if you have any question or suggestion related to Indian Classical Music or you want me to make a video on any topic, then you can tell me by commenting below this post. I will also write a post on that topic and also make a video.

You can also Visit and Subscribe to My YouTube channel Mr.jolly’s Music Classes to See Knowledgeful Videos of Theory and Practical related to Music,

🙏🇱🇷🎶🇦🇮🎷🇬🇧🎶🇨🇦🎵🇲🇾🎼🇭🇲🥫🇰🇷🎹🇨🇦🎶🇳🇪🙏

भारतीय शास्त्रीय संगीत से जुड़े प्रमुख शब्दों की परिभाषाएं ( भाग-1)

दोस्तो मेरा यह वेबसाइट और यूट्यूब चैनल बनाने का एक ही मकसद है कि मैं आपको इंडियन क्लासिकल और फोक म्यूजिक से रिलेटेड जितने भी सब्जेक्ट है, टौपिक हैं उनके बारे में सम्पूर्ण जानकारी दे सकूं।और मैंने भारतीय शास्त्रीय और लोक संगीत से रिलेटिड काफी सारे टॉपिक को कवर भी कर लिया है।और बाकी जितने भी भारतीय शास्त्रीय संगीत से रिलेटेड टॉपिक है, मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं कि उन सब को भी कर लूं ताकि आप अपने घर पर बैठकर ही अपने मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर द्वारा ऑनलाइन ही बिना किसी गुरु के बड़ी आसानी से संगीत सीख जाएं और अपने जीवन में एक कामयाब सिंगर, संगीतकार या फिर एक इंस्ट्रूमेंट प्लेयर बन जाएं।और मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि मैं जो भी पोस्ट, आर्टिकल लिख रहा हूं, या वीडियोस बना रहा हूं। आप सब लोग उनको बहुत पसंद कर रहे हैं।भारत के अलावा विदेशों से भी मेरे काम को बहुत अच्छा प्यार मिल रहा है और वहां भी मेरे पोस्ट, आर्टिकल और वीडियोस को बहुत पसंद किया जा रहा है।जैसे कि यू.एस.ए, यू.के, जर्मनी, फ्रांस, इटली, चाइना, कोरिया, रसिया,आयरलैंड, ताइवान, स्वीडन, कनाडा, मॉरीशस, डेनमार्क, न्यूजीलैंड, स्पेन, फिनलैंड, लिथुआनिया, इन सभी देशों के अलावा और भी बहुत सारे देशों में मेरे आर्टिकल, पोस्ट और वीडियोस को पसंद किया जा रहा है। जो भी लोग मेरे वीडियो देख रहे हैं और आर्टिकल पोस्ट पढ़ रहे हैं। मैं उन का तहे दिल से धन्यवाद करता हूँ,और मैं भविष्य में कोशिश करूंगा कि आपको इससे भी अच्छा और ज्यादा से ज्यादा कंटेंट दे सकूं,तो चलिए अब इस पोस्ट के मेन टॉपिक पर बात करते हैं। दोस्तो यह जो पोस्ट मैं लिख रहा हूं। यह पोस्ट आपको काफी सारे भाग में पढ़ने को मिलेगी,और हर पोस्ट में मैं 5-5 टौपिक को कवर करूंगा, इस पोस्ट में भी मै 5 टौपिक को कवर करने वाला हूँ, दोस्तो आपने इंडियन क्लासिकल म्यूजिक से रिलेटेड बहुत सारे शब्द सुने होंगे। जैसे के अलंकार क्या होता है ? सपतक क्या होता है ? नाद क्या होता है ? इनके अलावा हिंदुस्तानी सगींत पद्धति, कण, खटका, चलन, न्यास प्रस्तार, मेल, मत, त्रिवट, उपज, अंश, आताई, आश, अंग, बोल,झटका, कायदा, पलटा, तिहाई, मोहरा, मुखड़ा,टुकडा, रेला,उठान, परण,चौगुण, तिगुण, दोगुण, तान, बोलतान,बहुतव, धमार, तराना, गमक,तिरोभाव, आविरभाव, थाठ, पेशकार, बांट, लग्गी, लड़ी, गत, बेदम तिहाई, मार्ग,कला, ठुमरी, धरूपद, खमाल , टप्पा , रागाआलाप, रूपकाआलाप, अलपतव, बहुतव सरगम गीत, संगीत, शुद्ध स्वर, कोमल स्वर, रागों की जातियां, विभाग, ठेका, ठाह, वादी स्वर, संवादी स्वर, अनुवादी स्वर, विवादी स्वर, पूर्वांग, उतरांग, ग्रह स्वर, अंश स्वर , वक्र स्वर, कम्पन, तानों के प्रकार जैसे के अलंकारिक तान, वकरतान, छुट की तान, जबड़े की तान, दानेदार तान, शुद्ध तान, सरल तान, कुट तान, मिशर तान, स्वरलिपि,ऐसे और भी बहुत सारे टौपिक को मैं इस पोस्ट सीरीज में कवर करूंगा। अगर आप संगीत सीख रहे हैं या संगीत सीखना चाहते हैं और संगीत के फील्ड में कामयाब होकर एक सिंगर, संगीतकार, या एक ईंनसरूमेंट प्लेयर बनकर नाम पैसा और शोहरत कमाना चाहते हैं तो आप इस पोस्ट सीरीज की हर पोस्ट को बड़े ध्यान से पढ़ें। यह आपके लिए बहुत ही युज़फुल साबित होंगी।और ये नौलज आप के संगीत कैरियर में आपके हमेशा काम आएगी और आपको एक संगीत का विद्वान बनने में आपकी बहुत हेल्प करेगी।दोस्तो यह जितने भी टॉपिक मैंने ऊपर आपको बताए हैं उनमें से कुछ टॉपिक पर मैंने एक वीडियो भी बनाई हुई है। अगर आपने अभी तक वह वीडियो नहीं देखी है तो आप मेरे यूट्यूब चैनल मि जोलीज म्युजिक कलासस पर जाकर या फिर इस वेबसाइट के मेन मैन्यू पर जाकर माई यूट्यूब वीडियोस नाम के पेज पर क्लिक करके आप उस वीडियो को देख सकते हैं। तो चलिए अब भारतीय शास्त्रीय संगीत से रिलेटेड इन खास शब्दों की परिभाषाओं के बारे में आपको विस्तार से बताते है:–

टॉपिक नंबर 1 :– संगीत में अलंकार क्या होता है?

परिभाषा :—स्वर्रों और वर्णों की एक ऐसी रचना जिसके आरोह और अवरोह एक खास नियम के अनुसार चलते हैं, उसको अलंकार कहा जाता है। अलंकार में आरोह और अवरोह दो भाग होते हैं। अलंकार में दो तीन चार या इससे भी ज्यादा स्वरों का एक खास चलन को निश्चित कर लिया जाता है इसके अवरोह के सारे स्वर इसीे नियम का पालन करते हुए चलते हैं। स्वरों का जो कर्म अलंकार के आरोह में होता है उसका उलट कर्म अवरोह में भी रखा जाता है। जैसे कि स रे ग म प ध नी सं, ऐसे ही इसका उलटा अलंकार में भी रखा जाता है। जैसे कि सं नी ध प म ग रे स साधारण भाषा में अलंकार को पलटा भी कहते हैं? और कुछ लोग अलंकार को सरगम भी बोलते हैं,

टॉपिक नंबर (2) संगीत में आरोह किसे कहते हैं?

परिभाषा :–दोस्तो आरोह का मतलब होता है कि ऊपर की तरफ चढ़ना इसको आरोही भी कहा जाता है और एक यह संस्कृत भाषा का शब्द है।
अगर मैं आपको सरल भाषा में समझाऊं तो जैसे आप कोई भी अलंकार हारमोनियम कीबोर्ड या पियानो पर गाते हैं या बजाते हैं जब आप उसको ऊपर की तरफ गाते या बजाते हैं जैसे कि स रे ग मा प ध नी सं ऐसे होते या बजाते हैं तो उसको आरोह या आरोही कहा जाता है यानी के ऊपर की तरफ को बजाने को।

टॉपिक नंबर (3) संगीत में अवरोह किसे कहते हैं?

परिभाषा :–स्वरों के घटते हुए यानी के उतरते हुए क्रम को अवरोह कहा जाता है।इसे अवरोही भी कहते हैं और यह भी संस्कृत भाषा का शब्द है, जब आप हरमोनीयम, कीबोर्ड या प्यानो पर किसी भी अलंकार, सरगम को उल्टा बजाते हैं। यानी कि सं नी ध प म ग रे स ऐसे स्वरों को बजाते हैं तो उसको आरोह या अवरोही कहा जाता है,

टॉपिक नंबर ( 4 ) संगीत में पलटा किसे कहते हैं?

परिभाषा :–संगीत में गायन और वादन में जब स्वरों और शब्दों को जब उल्ट पुलट करके गाया या बजाया जाता है तो उसको पलटा कहते हैं। पलटा शब्द का प्रयोग तबला वादन में भी बहुत किया जाता है। जब कायदे के कुछ निश्चित बोलो को उलट-पुलट करके बजाया जाता है तो उसको भी पलटा कहते हैं।

टॉपिक नंबर (5) संगीत में स्वर किसे कहते हैं?

परिभाषा :–दोस्तो संगीत में स्वर उस आवाज को कहते हैं जो मधुर हो, सुरीली हो और आकर्षक हो जो एक दूसरे से अलग पहचानी जा सके और जिस पर ठहराव किया जा सके और जो आसानी से प्रयोग में लाई जा सके, जिसके द्वारा मन के भावों को प्रकट किया जा सके। संगीत में सारी रचना वर्णो पर आधारित होती है और जो स्वर होते हैं, वह श्रुतियों से बनते हैं।

नोट :–दोस्तो अगर आपका इंडियन क्लासिकल म्यूजिक से रिलेटिड कोई भी सवाल हो या सुझाव हो या फिर आप चाहते हैं कि मैं किसी भी टॉपिक पर वीडियो बनाऊं तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके मुझे बता सकते हैं। मैं उस विषय पर पोस्ट भी लिख दूंगा और वीडियो भी बना दूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!